4
एक आस जगी आज मन में- देवेन्द्र देव
एक आस जगी आज मन में- देवेन्द्र देव

एक आस जगी आज मन में दिल कि बात है दबी आज मन में कभी तो ये आग उगलेगा अपनी कमान ये खुद लेगा बहुत सह लिया हमने भी अब तो खून लगा है उबलन...

Read more »

0
आँखों से अश्क - देवेन्द्र देव
आँखों से अश्क - देवेन्द्र देव

आँखों से अश्क छिपाते-छिपाते सारा दामन भीग गया | ऐसा लगा की अज मै कुछ हारकर भी सब जीत गया ||

Read more »

0
नजरो के सामने रहूँगा हर पल- देवेन्द्र देव
नजरो के सामने रहूँगा हर पल- देवेन्द्र देव

हवा का झोका हू तुझे छुकर निकल जाऊँगा देर न लगी तेरे दिल में यु उतर जाऊंगा नजरो के सामने रहूँगा हर पल निगाहों में यु बसर कर जाऊंगा मुझस...

Read more »
 
 
Top