0
काबिलियत- देवेन्द्र देव
काबिलियत- देवेन्द्र देव

मेरी सीरत को तू देख सूरत पे न जा ! यु भी न सह पायेगा की हकीकत पे न जा !! यु भी जिन्दगी इम्तिहान लेती है ! किये जा मेहनत अंजाम-ऐ-हसरत पे न...

Read more »

0
दरख्त- देवेन्द्र देव
दरख्त- देवेन्द्र देव

आखिर कितना बाँध कर रखु में दरख्त की हर डाल को ! टूट के बिखरे है  ऐसे हमारी जड़े ही ख़राब हो जैसे !!

Read more »

0
मेरा दिल- देवेन्द्र देव
मेरा दिल- देवेन्द्र देव

तेरी ख़ुशी में नाच उठेगा ये दिल ! तुझे खुश देखकर के मचल जाएगा !!  बड़ी जल्दी में बनकर के आया है जहा में ! गम हो या ख़ुशी सब चल जाएगा !! ...

Read more »

0
असर- देवेन्द्र देव
असर- देवेन्द्र देव

असर तो है हम पर भी उस आफ़ताब का लेकिन, उनकी बात और है वो अंधेरो में चिराग जला देते है !!

Read more »
 
 
Top