0
तन्हाई- देवेन्द्र देव
तन्हाई- देवेन्द्र देव

ये वक़्त, ये तन्हाई और ये दीवानापन, हमें कही खा न जाये हमारा ये आवारापन ! टूट गए है मोती हमारे ही हाथ से जिन्दगी के , कि अब सहन नहीं होती...

Read more »

1
ग़ुरबत- देवेन्द्र देव
ग़ुरबत- देवेन्द्र देव

माथे पे पसीना लिए वो दो रोटी कमाता होगा ! इन दो रोटियों के लिए वो खुद को कितना सताता होगा !! तुम तो खेल लेते हो अपने खिलोनो से ! और वो मा...

Read more »

0
मुजरिम- देवेन्द्र देव
मुजरिम- देवेन्द्र देव

हर वक़्त एक सा नहीं रहता ! दरख्त हमेशा हरा नहीं रहता !! हम भूल जाते है कि वो भी एक इंसा है ! बन जाता है वो, पर हर इंसा फितरत से बुरा नहीं...

Read more »

0
अब्बा- देवेन्द्र देव
अब्बा- देवेन्द्र देव

जब में गिरा तो संभाला उसने !  चला तो हाथो से संभाला उसने !! गम था उसे भी कही तो गहरा ! मगर में न रोऊ सो अपने अश्को को भी पोछ डाला उसने !!...

Read more »

0
चंद लब्ज़- देवेन्द्र देव
चंद लब्ज़- देवेन्द्र देव

अश्क है, दरिया है, दर्द भी है, मगर इन्हें बहाने का सबब भी चाहिए -------------------------------- वो भूल जाते है हर बात लेकिन, हमें नहीं ...

Read more »

0
मोह्हबत- देवेन्द्र देव
मोह्हबत- देवेन्द्र देव

मुझसे जो मोह्हबत करोगे तो क्या पाओगे ! कुछ यु अपना दिल तोड़ोगे की बिखर जाओगे !! हमने क्या पाया है अब तक वफ़ा करके ! तुम भी सिर्फ वफ़ा-ऐ-दर्...

Read more »

0
सोहबत- देवेन्द्र देव
सोहबत- देवेन्द्र देव

गुम यु टूटते वक़्त नहीं लगता ! अँधेरे में तीर मारू पर निशाना कमबख्त नहीं लगता !! राह पे था एक बीज रोपा ! पर वह एक दरखत नहीं लगता !! कहते...

Read more »

0
चेहरा- देवेन्द्र देव
चेहरा- देवेन्द्र देव

एक चेहरा है जिस पे हम मर मिटे है ! वर्ना शमा के पास जा के तो परवाना भी जल उठता है !!

Read more »

0
बाज़ार- देवेन्द्र देव
बाज़ार- देवेन्द्र देव

दिल का कोई बाज़ार नहीं होता ! हर इंसा खुद्दार नहीं होता !! अब ढूंढे से भी आदिल मिले कहा से ! की ऐसा कौन सा दामन है जो दागदार नहीं होता !! ...

Read more »

0
इंतहा- देवेन्द्र देव
इंतहा- देवेन्द्र देव

तू मोहब्बते इज़हार इतना भी न कर ! कि चेहरा तेरे दिल का आइना बन जाये !!

Read more »
 
 
Top