4
एक आस जगी आज मन में
दिल कि बात है दबी आज मन में

कभी तो ये आग उगलेगा
अपनी कमान ये खुद लेगा

बहुत सह लिया हमने भी
अब तो खून लगा है उबलने भी

हर किसी के नाम पर खेल है
यह बस वोटो की रेलमपेल है

वो कुर्सी पर आये सब भूल गए
वादे सारे पहली बारिश में धुल गए

सुना है नया कोई कानून आएगा
तोड़ने के रस्ते भी वही कानून बतलायेगा

अब तो जागो सवाल दागो
पूछो अपनों पैसो कहा पे लागो

ब्लागरो पर है तलवार की तैय्यारी
सुना है ला रहे है कोई कानून भारी

शहर को सडको के नाम पर खोदा
फिर आ गया बी.आर.टी.एस. के बाद मेट्रो का सौदा

अब तो जागो अब तो जागो
देश के प्यारो अपने कर (Income Tax) का हिसाब मांगो - देवेन्द्र देव

Roman

ek aas jagi hai aaj man me
dil ki baat hai dabi aaj man me

kabhi to ye aag uglega
apni kamaan ye khud lega

bahut sah liya hai hamne bhi
ab to khun laga hai ubalane bhi

har kisi ke naam par khel hai
yah bas voto ki relampel hai

wo kursi par aaye sab bhul gaye
waade sare pahli barish me dhul gaye

suna hai naya koi kanun aayega
todne ke raste bhi wahi kanun batlayega

ab to jago sawal dago
puchho apno paiso kaha pe lago

blaggero par hai talwar ki taiyyari
suna hai la rahe hai koi kanun bhari

shahar ko sadko ke naam par khoda
fir aa gaya B.R.T.S. ke baad METRO ka sauda

ab to jaago ab to jago
desh ke payaro apne kar ka hisab mango - Devendra Dev

Post a Comment

  1. साढ़े छह सौ कर रहे, चर्चा का अनुसरण |
    सुप्तावस्था में पड़े, कुछ पाठक-उपकरण |

    कुछ पाठक-उपकरण, आइये चर्चा पढ़िए |
    खाली पड़ा स्थान, टिप्पणी अपनी करिए |

    रविकर सच्चे दोस्त, काम आते हैं गाढे |
    आऊँ हर हफ्ते, पड़े दिन साती-साढ़े ||

    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  2. Replies
    1. ravikar ji likh to raha tha par us star ki nahi ab unhe bhi blog par dalunga

      Delete

 
Top