0
हवा का झोका हू तुझे छुकर निकल जाऊँगा
देर न लगी तेरे दिल में यु उतर जाऊंगा

नजरो के सामने रहूँगा हर पल
निगाहों में यु बसर कर जाऊंगा

मुझसा न मिलेगा कोई चाहने वाला
तू भले पत्थर हो मै मोम कर जाऊंगा

जो कभी दूर भी हुआ तुझसे
याद करोगे हमें कुछ ऐसा असर कर जाऊंगा
                                                            - देवेन्द्र 'देव'

Post a Comment

 
Top