1

वक़्त रहा तो फिर मिलेंगे मैखान
फ़िलहाल तो खुद से वक़्त न होने कि शिकायत करते है

वक़्त लगता है किसी जख्म को भर जाने में
पर जब वक़्त ही उसकी वजह हो तो कोई क्या करे

वक़्त ने जला दिया मुझको तिनका-तिनका करके
हम भी दीवाने थे शमा के, जल जाते यु भी उसके पास जाकर

Post a Comment

  1. सुन्दर भावों को बखूबी शब्द जिस खूबसूरती से तराशा है। काबिले तारीफ है।

    ReplyDelete

 
Top