0
आखिर कितना बाँध कर रखु में दरख्त की हर डाल को !
टूट के बिखरे है  ऐसे हमारी जड़े ही ख़राब हो जैसे !!

Post a Comment

 
Top